Sunday, February 14, 2010

गोवा की संस्कृति??? या हिन्दुओं का जातीय सफ़ाया… ?

हमारे JNU पोषित इतिहासकारों ने अक्सर हमें बताया है कि गोआ की सारी संस्कृति वगैरह जो भी वहाँ है सब कुछ पुर्तगालियों की देन है…। इसी प्रकार हम गुजरात दंगों के बाद से ही "सो कॉल्ड" बुद्धिजीवियों के मुँह से "Genocide" (जातीय सफ़ाया) नामक शब्द सुनते आये हैं… (हालांकि कश्मीर के मामले में यह शब्द नहीं कहा जाता क्योंकि उससे सेकुलरिज़्म को खतरा हो जाता है)… नीचे दी गई लिंक पर जाईये और आपको पता चलेगा कि इस तरह से गोरों (इसे ईसाईयों पढ़ा जाये) ने गोआ से हिन्दुओं का जातीय सफ़ाया किया और गोआ की संस्कृति पर हथौड़े चलाये गये, एक समय "कोंकण की काशी" कही जाने वाली गोआ नगरी आज जुआरियों, सटोरियों, नशे के सौदागरों, हत्यारों, बिकिनियों और बाल-यौनशोषण का अड्डा बन चुकी है…


2 comments:

भारतीय नागरिक - Indian Citizen said...

धन्य हैं सिक-उलर मीडिया.

February 14, 2010 at 11:48 AM
हिटलर said...

There are so many dirty examples of this type of Hindu Genocide... Our Media is Really a SICK and SUCKing the licks of Congress...

February 14, 2010 at 11:58 AM

Post a Comment

बेधड़क अपने विचार लिखिये, बहस कीजिये, नकली-सेकुलरिज़्म को बेनकाब कीजिये…। गाली-गलौज, अश्लील भाषा, आपसी टांग खिंचाई, व्यक्तिगत टिप्पणी सम्बन्धी कमेंट्स हटाये जायेंगे…