Thursday, February 11, 2010

TOI = Times of India? नहीं TOI = टॉयलेट पेपर…

अब तक आपने पैसा लेकर खबरें छापने के बारे में पढ़ा होगा… टाइम्स ऑफ़ इंडिया ने पैसा लेकर संपादकीय, और बिजनेसमैनों के इंटरव्यू भी छाप रहा है। ऐसे इंटरव्यू में प्रश्न और उत्तर दोनों पहले से ही उस उद्योगपति द्वारा दे दिये जाते हैं। मुम्बई से प्रकाशित "मिड-डे" में इस बारे में खबर छपी है और एशिया टाइम्स की साइट पर भी टाइम्स को कितने में खरीदा जा सकता है उसके "रेट" छपे हैं… ज्यादा क्या कहूं… http://www.atimes.com/atimes/South_Asia/FE18Df05.html

5 comments:

दिनेशराय द्विवेदी Dineshrai Dwivedi said...

यह तो कब से हो रहा है।

February 11, 2010 at 11:29 AM
उम्दा सोच said...

#!^&*@*&^$@$*&^@&(*&(
देश ने कैसे इन्हें अपने सीने में जगह दे रक्खी है समझ नहीं आता ???

बेनेट कोउल्में वालो को चाहिए पहले पागल भूखे कुत्तो के सामने अपनी तशरीफ़ खोल कर खड़े हो,और "न काटेजाने की आशा करे" अगर सफल हो तब पाक से "अमन की आशा" करे !

February 12, 2010 at 12:16 PM
Jeet Bhargava said...

बड़ी धाँसू खबर दी है आपने. दर असल यह काफी दिनों से चल रहा है. उसने तो बाकायदा न्यूज स्पेस सेलिंग के लिए एक टीम बनाकर भी रखी है. वैसे टाइम्स पिछले ६० साल से कोंग्रेस से पैसा खाकर उसके फेवर में ही तो लिख रहा है. टाइम्स ही क्या एन डी टी वी, सी एन एन, जैसे कई और नाम भी इस बिकाऊ पत्रकारिता के नामचीन प्रतीत होते हैं. कोई कोंग्रेस से खाता है तो कोई अरब के शेखो से इस्लाम के प्रचार के लिए तो कोई वेटिकन से ईसाईयत के प्रसार के लिए और हिन्दू समाज को बदनाम करने के लिए. और इन बिकाऊ मीडिया दुकानो पर कोई हमला करता है, तो उसे मीडिया पर हमला बताकर हल्ला मचाया जाता है. लेकिन क्योकि यह मीडिया खुद को बड़ा सेकुलर मानता -कहता है, इसलिए इसके सभी गुनाह माफ़ है, कहते है..'सेकुलर को नहीं दोष गुसाईं'. मूर्ख तो हम जनता है जो तीन-चार रूपये खर्च करके इन अखबारों को खरीदते हैं. और उनमे विज्ञापित माल भी खरीदते हैं. एक बार इन अखबारों /चैनलों का और उसमे विज्ञापन देने वाले ब्रांड्स का बहिष्कार कर दो अपने -आप इनकी अकल ठीकाने आ जाएगी.
वैसे भी बोम्बे टाइम्स (टाईम्स का मुम्बई स्पेशल पेज) में तो जमकर 'पोर्न नग्नता' होती है. जिसे कोई भी सभ्य भारतीय अपने घर पर नहीं मंगा सकता.

February 14, 2010 at 11:02 PM
SHIVLOK said...

besharmi khul gayii

log samjhen tab na

February 15, 2010 at 9:11 PM
nitin tyagi said...

TOI = Times of India? नहीं TOI = टॉयलेट पेपर…

Bilkul sahi

February 17, 2010 at 2:15 PM

Post a Comment

बेधड़क अपने विचार लिखिये, बहस कीजिये, नकली-सेकुलरिज़्म को बेनकाब कीजिये…। गाली-गलौज, अश्लील भाषा, आपसी टांग खिंचाई, व्यक्तिगत टिप्पणी सम्बन्धी कमेंट्स हटाये जायेंगे…