Monday, April 12, 2010

चूंकि आंध्रप्रदेश में गिराया गया मन्दिर, बाबरी ढाँचा नहीं है, इसलिये सेकुलर रुदालियाँ रोने वाली नहीं है…

विगत 17 मार्च को ईसाईयों के एक समूह ने सेमुअल राजशेखर रेड्डी के स्वप्न को पूरा करने की दिशा में एक कदम और उठाया। आंध्रप्रदेश के पश्चिमी गोदावरी जिले के मंगलागुण्टा में एक 100 साल पुराना मन्दिर कुछ ईसाई युवकों द्वारा ढहा दिया गया (यह राम मन्दिर है और दलितों की बस्ती में स्थित है)। स्थानीय लोगों का आरोप है कि तहसीलदार की भी इसमें मिलीभगत है। शुरुआत में तो पुलिस ने भी रिपोर्ट लिखने में आनाकानी की, फ़िर भी बाकायदा नामजद FIR दर्ज की गई है जिसमें मन्दिर गिराने वाले ईसाई युवकों के नाम दिये गये हैं…। पहले भी मन्दिर गिराने की ऐसी कोशिशों का प्रतिरोध किया गया था, लेकिन इस वर्ष रामनवमी उत्सव (24 मार्च) की तैयारियों के बीच एक हमले में 16 मार्च को यह मन्दिर गिरा दिया गया। ईसाईयों ने न सिर्फ़ मन्दिर गिराया बल्कि राम की मूर्ति भी तोड़ दी। इसके बाद हरिजन रामालय सुरक्षा समिति के सदस्यों पर प्राणघातक हमला भी किया गया।

तेलुगु अखबार की कटिंग



दर्ज की गई FIR की प्रति, जिसमें ईसाई युवकों के नाम दिये गये हैं…





अब दिक्कत यह है कि इस मामले पर रोनाधोना मचाने वाली सेकुलर और वामपंथी रुदालियाँ इसलिये चुप हैं क्योंकि यह बाबरी ढाँचा नहीं है… सिर्फ़ एक मन्दिर है और विधर्मियों द्वारा मन्दिरों के तोड़े जाने पर हल्ला मचाने की परम्परा हमारे यहाँ नहीं है…

खबर यहाँ देखें…
http://www.crusadewatch.org/index.php?option=com_content&task=view&id=1066&Itemid=90

9 comments:

Tarkeshwar Giri said...

inke gale main mala pahna karke ke soniya gandhi ke samne pesh kiya jana chaiye.

April 12, 2010 at 2:29 PM
संजय बेंगाणी said...

कॉंग्रेस का हाथ, मिश्नरियों के साथ.

April 12, 2010 at 2:48 PM
रजनीश के झा (Rajneesh K Jha) said...

मगर ये मंदिर भाजपा के लिए वोट बैंक नहीं इसलिए इस मंदिर के लिए भाजपा भी नहीं रो रही है,

April 12, 2010 at 2:58 PM
दिलीप said...

Hindu waise bhi khane sone me hi vyast hai...waise bhi devi devtaaon se usko matlab nahi...pata nahi kya hoga...

http://dilkikalam-dileep.blogspot.com/

April 12, 2010 at 3:20 PM
kunwarji's said...

rajnish ji ne sahi kaha....

April 12, 2010 at 3:24 PM
HTF said...

बात बाजपा और कांग्रेस की नहीं बात है सेकुलर गिरोह के भारतविरोधी-हिन्दूविरोधी पूर्वाग्रह की जिसके परिणास्वारूप बारत में हालालत दिनवादिन बद से बदतर होते चले जा रहे हैं।जरूरत है जनमत द्वारा इस मानसिकता को ठीक करने की वरना हम तो इसे ठीक कर ही देंगे अपने तरीके से फिर लोग कहेंगे कि ये तो वेचारे गरीब अनपढ़ थे।

April 12, 2010 at 7:12 PM
nitin tyagi said...

shame on indian Present gov

April 13, 2010 at 7:17 PM
जीत भार्गव said...

जब तक लोग सोते रहेंगे, रीढविहीन कोंग्रेसी जीतते रहेंगे.
जब कोंग्रेसी नपुंसक रहेंगे, सोनिया-चर्च राज करेंगे.
जब तक सोनिया राज करेगी, चर्च की दूकान चलती रहेगी.

April 21, 2010 at 11:16 PM
हर्षवर्धन said...

this type of pseudo secularism must be stopped.

April 22, 2010 at 12:24 PM

Post a Comment

बेधड़क अपने विचार लिखिये, बहस कीजिये, नकली-सेकुलरिज़्म को बेनकाब कीजिये…। गाली-गलौज, अश्लील भाषा, आपसी टांग खिंचाई, व्यक्तिगत टिप्पणी सम्बन्धी कमेंट्स हटाये जायेंगे…